ग़ाफ़िल की कलम से

कबाड़ा

17 Posts

57 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3088 postid : 7

भारत में चुनाव : कर्मचारी बनाम भूसा

Posted On: 24 Oct, 2010 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कल उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का तीसरा दौर सम्पन्न हुआ। मैं भी गोण्डा ज़िले में ड्यूटी करके आज जैसे- तैसे घर लौटा हूँ। चुनाव के दौरान वैसे तो तमाम आसानियों-परेशानियों से दो-चार होना पड़ता है पर एक बात शायद कभी भी समझ में न आने वाली यह है कि- (हो कोई विद्वान जो समझा दे!) मैं बचपन से देख रहा हूँ तथा अब तो अनेकश: भुक्तभोगी भी हूँ कि चुनाव-कर्मचारियों के गमनार्थ साधन-स्वरूप अधिकारियों को शुरुआत से अब तक सर्वाधिक सुविधा जनक सवारी ट्रक, जो सर्वविद है कि यह माल-वाहन है, ही क्यों नज़र आ रही है? जिसमें कर्मचारियों को भूसे के समान ठूँस-ठूँस कर भरके भेज दिया जाता है। तब भी आदमी भूसा था और अब विकास-पथ पर इतना अग्रसर हो जाने के बाद भी भारत में आदमी भूसा है। सम्भव है शुरुआती दौर में साधनों का अभाव तथा रास्तों की विकटता इस अनुसंधान की मूल रही हो पर अब ऐसी कोई भी मज़बूरी नहीं दिखायी पड़ती। वहाँ तो यह व्यवस्था कतई असमीचीन है जहाँ साधन तथा सड़कों की पर्याप्त सुविधा है। यद्यपि भारत में कई ऊबड़-खाबड़ जगह हैं पर प्रत्येक जगह और हर समय के लिए यही सिद्धान्त स्वीकार कर लेना मज़बूरी नहीं धृष्टता मानी जाएगी तथा ऐसी हरक़त को अधिकारियों की भ्रष्टाचारिता की संग्या से क्यों न अभिहित किया जाय? क्यों न माना जाय कि यह उनका पैसा बचाने का चक्कर है? जब कोई ख़ास वज़हात नहीं हैं तब आदमियों के साथ जानवरों तथा भूसे के माफ़िक सलूक क्यों किया जा रहा है? दिखावे के बतौर एक-दो बस की व्यवस्था कर देना कर्मचारियों में आपसी ईर्ष्या तथा आत्महीनता को बढ़ावा देना ही है।

क्या हम आज भी गुलामी की मानसिकता से उबर नहीं पा रहे हैं? क्या हम आज भी लकीर के फ़कीर नहीं बने हुए हैं? अँग्रेजियत का भूत हम पर कब तक सवार रहेगा? ऐसी हरक़त को नौकरशाही परम्परा की अति क्यों न मानी जाय? हम कब तक अपने भाग्य को अनावश्यक रूप से कोसें? (क्योंकि चुनाव-ड्यूटी में जाने पर हमारी प्रथम चिन्ता होती है कि बस मिलेगी या ट्रक और अक्सर ही ट्रक मिलने पर हमें अपने भाग्य को कोसना पड़ता है) आदि प्रश्नों का उत्तर किस सूचना अधिकार के तहत समस्त कर्मचारियों के जानिब से किससे मागूँ? कोई तो बताए!!!
- ग़ाफ़िल

| NEXT



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

virendra sharma(veerubhai) के द्वारा
28/01/2012

सुन्दर सार्थक विश्लेषण . पीठासीन अधिकारी उसे कहा जाता है जिसकी पीठ पर भूसा लदा हो लेकिन जिसे उस रोज़ कागज़ पर फस्ट क्लास मजिस्ट्रेट का दर्ज़ा प्राप्त हो जिसकी जान इलेक्शन मटेरियल जमा होने तक सासत में रहे .तहसीलदार जिस पर रोब जमाए यही इस तन्त्र की विसंगतियां हैं जो लोक तंत्र का सबसे पावन पर्व है उसके पीठासीन अधिकारी का बेड़ा गर्क है .

    ग़ाफ़िल के द्वारा
    28/01/2012

    आभार… आपने सही आकलन किया भाई साहब

25/10/2010

प्रथम लेख के लिए हार्दिक बधाई………….. अच्छा लेख………….

abodhbaalak के द्वारा
24/10/2010

गाफिल जी सर्वप्रथम तो आपके पहले पोस्ट पर आपको बधाई, आपने जिस विषय को उठाया है वो सचमुच विचारणीय है, पर शायद आजके शासक वर्ग के दिमाग में भूंसा जो भरा है, जल्दी नहीं समझ में आयगा http://abodhbaalak.jagranjunction.com


topic of the week



latest from jagran